Trending Discussions

RBI के अनुमान से भी अधिक तेजी से कम हुआ NPA

by Abhijeet Srivastava - Jun 12 2019 6:04PM

क्रिसिल की रिपोर्ट में कहा गया है कि मार्च 2019 में सिस्टम-वाइड नॉन-परफॉर्मिंग एसेट्स स्टॉक में भारी गिरावट आई है, जो मार्च 2019 में 9.3% रिज़र्व बैंक के अनुमान से बहुत तेज़ और 11.5 प्रतिशत से कम है।

सोमवार को एक नोट में कहा गया है, "मार्च 2018 तक चार वर्षो में 11.5 प्रतिशत तक की वृद्धि के बाद मार्च 2019 तक वित्तीय वर्ष 2019 में 9.3 प्रतिशत तक सिस्टम-वाइड एनपीए में गिरावट आई है।"

दिसंबर में अपनी अर्ध-वार्षिक वित्तीय स्थिरता रिपोर्ट में, भारतीय रिजर्व बैंक ने अनुमान लगाया था कि मार्च 2019 तक सकल गैर-प्रदर्शनकारी परिसंपत्तियों का अनुपात मार्च 2019 तक 10.3 प्रतिशत हो सकता है, जो सितंबर 2018 में 10.8 प्रतिशत था।

यह मोदी सरकार की दूरदर्शी नीतियों का ही परिणाम है, मोदी सरकार ने आईबीसी कानून बनाकर देश के उद्योगपतियों पर नकेल कसने का काम किया है जो बैंकों से करोड़ों रुपए लेकर वापस नहीं लौटा रहे थे!

पहले ऐसा कोई कानून ना होने के कारण उद्योगपतियों में डर नहीं था, बैंक अपना पैसा मांगने के लिए उद्योगपतियों के चक्कर लगाती थी जैसे उनसे अपना पैसा नहीं भीख मांग रही हो! आज आईबीसी कानून और फ्यूज्यूटिव इकोनोमिक ऑफेंडर कानून के कारण उद्योगपति बैंकों के चक्कर लगा रहे है कि भाया अपना पैसा ले लो नहीं तो सरकार हमारा कंपनी नीलम करके बेच देगी! हमको जेल में डाल देगी! माल्या और नीरव जैसे भगोड़ों की देशी/विदेशी संपत्तियां जब्त करके रिकवरी की जा रही है!

एक और बात, नीरव मोदी तो लंदन की जेल में सड़ रहा है, नीरव मोदी की जमानत याचिका पर सुनवाई पूरी हो गई है, जिसे  UK हाईकोर्ट ने खारिज कर दिया है!

Source -

0 Comments